शुक्रवार, 20 सितंबर 2019

(2019) Vyayam Ka Mahatva, व्यायाम का महत्व क्या है

Vyayam Ka Mahatvaआज मै आपलोगों को यह बताऊंगा की आप व्यायाम करके हमेशा हमेशा जवान रह सकते है। आज मै Vyayam Ka Mahatva क्या है इसके बारे में बताऊंगा।


Vyayam Ka Mahatva

Vyayam Ka Mahatva

Vyayam Ka Mahatva


देखिये मित्रो हमारे शरीर को अगर अच्छी तरह से इसकी देख भाल नहीं की जाएगी तो इस शरीर को कई सारी विमारिया पकड़ लेंगी। लेकिन अगर आप सही तरीके से नियमनिसार अपने शरीर  करते है तो आपके शरीर को विमारियां कभी  छू भी नहीं सकती है।  तो आप हमारा कहना मनो लगातार व्यायाम करना शुरू कर दो। अगर लगातार नियाम  किया जाये तो आपके शरीर को वीमारी कभी छू भी नहीं सक्ति है।  दोस्तों आपको यह पता होगा की व्यायाम हमारे शरीर के लिए कितना फायदेमंद होता है। अगर आप लगातार नियम से व्यायाम करते है तो आपको कभी भी वीमारी छू नहीं सकती है। लेकिन हाँ आप लगातार व्यायाम करें। व्यायाम हमारे शरीर के लिए कितना फायदा करता है जब आप व्यायाम करेंगे तभी जानेंगे की व्यायाम हमारे शरीर के लिए कितना फायदेमंद है। अगर आप लगातार नियम से व्यायाम करते है तो आप सालो साल जवान बने रहेंगे।


दोस्तों अगर हम लगातार व्यायाम करते है तो हमारे शरीर में हमेशा एक चमक बानी रहती है। और हमारा शरीर एकदम चुस्त दुरुस्त और फिट रहता है। 



व्यायाम का हमारे जीवन में बहुत ही बड़ा रोल होता है लेकिन ज्यादा लोगों में यह पाया जाता है की वे लोग व्यायाम करना नहीं चाहते है और बहुत ही जल्दी बूढ़े हो जाते है। और फिर उनकी मृत्यु जल्दी से हो जाती है। वही अगर हम बात करे तो जो लोग हमेसा व्यायाम करते है वे लोग हमेशा एकदम उनके चेहरे पर लाइट चमकती रहती है। तो आइये मै अपने अनुभव से एक कहानी आपंको बताने जा रहा हु जिसको सुनने के बाद आप हमेशा व्यायाम करना चाहेंगे। Vyayam Ka Mahatva क्या है अगर नहीं तो आइये शुरू करते है  जानते है की व्यायाम का महत्व क्या  होता है। 


दोस्तों मेरा नाम प्रवीण सिंह है मैं जिला अंबेडकर नगर उत्तर प्रदेश भारत का रहने वाला हूँ। मेरे गांव का नाम ग्राम व पोस्ट आदमपुर तिन्दौली है। दोस्तों जब मै योगा के बारे में नहीं जानता था दोस्तों मुझे एलर्जी थी एलर्जी का मतलब जैसे कि हर वक्त हमको दो-तीन दिन के बाद जुखाम पकड़ लेता था सर्दी हो जाती थी और मैं हमेशा कुछ न कुछ परेशान रहता था।  लेकिन हमारे बड़े भाई ने हमको रामदेव के योगा के बारे में बताया और कहा कि तुम प्रतिदिन सुबह जब सो कर उठो तो तुम सुबह 10 मिनट रामदेव का योगा कर लो, तुम्हारी सारी बीमारी जो तुमको बार-बार सर्दी होती है ठीक हो जाएगी।

तो दोस्तों पहले तो हमने सोचा जाने दो कौन करेगा लेकिन बाद में फिर सोचा की 10 मिनट बात है तो कर ही लेते है। तो मैंने उनसे पूछा कि बड़े भैया हमको क्या करना होगा तो उन्होंने बताया कि जब तुम सुबह सोकर उठो तो उसके बाद फ्रेश हो जाओ और तुम अनुलोम विलोम का योगा करो। तो मैंने पूछा बड़े भैया कैसे करते हैं अनुलोम विलोम का योगा। उन्होंने बताया कि जब तुम सुबह सो कर उठो तो उसके बाद तुम्हें एक चद्दर या चटाई जमीन पर बिछाकर वहां पर बैठ जाओ। इसके बाद तुमपल्थी मार कर बैठे जाओ और कमर अपनी सीधी कर लो ध्यान मुद्रा में अपने एक हाथ के अंगूठे से अपनी एक नाक को बंद करके और दूसरे नाक से सांस ओमकार का जाप करते हुए अंदर की तरफ खींचो। लेकिन ओमकार का जाप करना होगा और फिर जिस नाक से तुमने खींची है सुना को छोड़कर उसके बगल वाले नाक को बंद करके सांस छोड़ने है साथ में ओमकार का जाप करते हुए ऐसा तुमको 10 मिनट करना होगा।

इसे भी पढ़े -

1. Exercise karne ke niyam

दोस्तों मैंने बड़े भाई के बताए हुए रामदेव के योगा अनुलोम विलोम को शुरू कर दीया। जब मैं सुबह सोकर उठता हूं तो अनुलोम-विलोम योगा भाइयों जरूर 10 मिनट करता हूँ। दोस्तों मैंने लगातार एक महीने तक किया 1 महीने के बाद मैंने देखा कि अब हमको सर्दी नहीं होती है हमारी सर्दी तो जैसे छूमंतर हो गई। हां दोस्तों सही सुना आपने आज मुझे दो-तीन महीने में एक या दो बार ही सर्दी होती है। और हमारी जिंदगी एक दम अच्छी हो गई। मेरे कहने का मतलब जैसे मैं परेशान रहता था बहुत ज्यादा सर्दी के कारण अब उससे मुझे छुटकारा मिल गया है और मुझे महीने में जहां मुझे तीसरे या चौथे दिन में सर्दी होती थी वही आज हमको 2 या 3 महीने में एक या दो बार ही सर्दी होती है। तो सर्दी अनुलोम विलोम से हमारी तो एकदम से खत्म हो गई। 

दोस्तों मैंने यह कहानी आपको इसलिए बताई क्योंकि मैंने अनुलोम विलोम योगा को आजमाया हुआ है और मेरे ऊपर या काम किया है इसलिए मैंने आपको सच्चाई बताई है तो सर्दी हमारी ठीक हो गई हहै। अब मैं दिन में थोड़ा चुस्त-दुरुस्त रहता हूं लेकिन दोस्तों आपको प्रतिदिन इसको करना होगा कम से कम 3 महीने तो करना ही होगा इसके बाद चाहे आप आगे चलकर छोड़ दे तब कोई फर्क नहीं पड़ेगा। 


आप लगातार अनुलोम विलोम का योगा करें और अपने मस्तक को शरीर को फिट रखे हैं अपने अंदर की कई सारी बीमारियों को दूर करें। 

 दोस्तों यह कहानी सुनकर आपको अंदाजा लगा होगा कि योगा Vyayam Ka Mahatva क्या महत्व होता है। नियमित रूप से व्यायाम करें और अपने शरीर को चुस्त दुरुस्त रखे। अगर आप लगातार व्यायाम करते हैं योगा करते हैं तो आपका शरीर सालों साल बना रहेगा।

Vyayam Ka Arth


आयाम का अर्थ होता है कि आपका पूरा शरीर एकदम सुचारू तरह से रहे। जब आप व्यायाम करेंगे तो आपका शरीर का तापमान ना घटना चाहिए ना  बढ़ना चाहिए इसका अर्थ होता है व्यायाम। देखिए व्यायाम का अर्थ होता है कसरत कसरत शरीर के अंगों को स्वस्थ  रखने के लिए किया जाता है। 


अगर आप भी हमेशा व्यायाम करते हैं तो आपका शरीर चुस्त-दुरुस्त और सुचारु रुप से हमेशा हमेशा के लिए बना रहेगा। लेकिन आप अगर वही पर आप प्यार नहीं करते हैं तो आपके शरीर मैं ज्यादा बीमारियां आने  लगेंगे। 

दोस्तों आपको बता दें कि मनुष्य के शरीर में जितना जरूरी होता है भोजन करना उतना ही जरूरी होता है व्यायाम करना। अगर आप भोजन करते हैं तो आप व्यायाम भी करें अगर आप व्यायाम नहीं करते तो आपका शरीर बीमारियों से जकड़ जाएगा आपके शरीर में फुर्ती नहीं रहेगी आपके चेहरे पर चमक नहीं रहेगा इसलिए मेरा कहना मानो और व्यायाम करना शुरू कर दो।देखिए अगर आप रोज के  आधे घंटे व्यायाम के लिए देते हैं आपके जीवन के लिए बहुत ही उपयोगी होगा। 

Vyayam Ka Mahatva 2019

मै आपको यह बता दू की व्यायाम करना 2019  में बहुत ही ज्यादा जरुरी हो गया है। क्योंकि आज का समय बहुत ही फ़ास्ट हो गया है। लोगों को अपने खान-पान पर ध्यान ही नहीं रहता है, बस वह अपने काम में व्यस्त रहना चाहते हैं और इसी कारण उनका शरीर टूट जाता है और समय के हिसाब से  देखने में उनका शरीर कुछ गड़बड़ लगता है । मेरे कहने का मतलब यह है कि आप समय के हिसाब से चले अगर समय बहुत फास्ट है तो आप भी फास्ट बने अष्ट बनने के लिए आपके शरीर को चुस्त-दुरुस्त होना पड़ेगा और आपका शरीर चुस्त-दुरुस्त तभी होगा जब आप नियम से भोजन करेंगे और नियम से रोज सुबह व्यायाम करेंगे। 


तो दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा अच्छा लगा हो तो हमारी वेबसाइट को फॉलो करें जिससे मैं जब भी कोई आर्टिकल इस साइट पर डालू तो आप लोग उसको आसानी से पढ़ सके धन्यवाद?



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें